पीलिया :-यदि आपका कोई अपना या परिचित पीलिया रोग से पीड़ित है तो इसे हलके से नहीं लें, क्योंकि पीलिया इतन घातक है कि रोगी की मौत भी हो सकती है! इसमें आयुर्वेद और होम्योपैथी का उपचार अधिक कारगर है! हम पीलिया की दवाई मुफ्त में देते हैं! सम्पर्क करें : 0141-2222225, 98285-02666

Sunday, November 20, 2011

घूस लिया और कर दिया स्कूल की रेटिंग में उलटफेर, मिली बीईईओ सुवालाल जाट को जेल!

अजमेर. भ्रष्टाचार मामलों की विशेष अदालत ने स्कूल क्रमोन्नत करने के एवज में तीन हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़े गए किशनगढ़ के तत्कालीन बीईओसुवालाल जाट को दो साल कठोर कैद और 75 हजार रुपए के जुर्माने से दंडित किया है। सुवालाल गिरफ्तारी के बाद से ही जेल में है। 

चार्जशीट पेश होने के मात्र चार माह के भीतर मुकदमे की सुनवाई पूरी करते हुए न्यायाधीश कमल कुमार बागड़ी ने सुवालाल जाट को भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धारा 7 और 13 के तहत दोषी माना है। मामले के अनुसार सूरजपुरा ग्राम निवासी बालमुकुंद वैष्णव की ताजपुरा गांव में महेश शिक्षण संस्थान के नाम से स्कूल है। वैष्णव ने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में स्कूल को उच्च प्राथमिक तक क्रमोन्नत करने के लिए आवेदन किया था। 

जिला शिक्षा अधिकारी ने स्कूल क्रमोन्नत करने की जिम्मेदारी बीईईओ सुवालाल जाट को सौंपी। बीईओ जाट 10 मई को ताजपुरा पहुंचकर स्कूल का निरीक्षण किया और जांच रिपोर्ट भेजने के एवज में डेढ़ हजार रुपए घूस ली और दो दिन में जांच रिपोर्ट भेजने का आश्वासन दिया। रिपोर्ट नहीं भिजवाई तो वैष्णव ने जाट से संपर्क किया तो उसने 3 हजार रुपए और रिश्वत मांगी। इस पर वैष्णव ने एसीबी से शिकायत की। 

शिकायत का सत्यापन कर सुवालाल जाट को ट्रेप करने की कार्रवाई शुरू की गई। एएसपी भंवरसिंह नाथावत ने दल गठित किया। 17 मई को सुवालाल जाट ने वैष्णव को एक चाय की होटल पर रिश्वत की रकम देने के लिए बुलाया। एसीबी के दल ने जाट को वैष्णव से तीन हजार रुपए रिश्वत लेकर थैले में डालते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया।

पुलिसकर्मी होंगे पुरस्कृत 

एसीबी ने इस मामले को केस ऑफिसर स्कीम के तहत रखा था। 17 मई को सुवालाल जाट की गिरफ्तारी हुई और 13 जुलाई को चार्जशीट पेश कर दी गई। अदालत में चार माह चली सुनवाई के बाद सुवालाल को दोषी पाया गया। प्रकरण में एसीबी दल के शिवपाल, राजेश, नंदसिंह व अन्य ने प्रशंसनीय कार्य किया। एएसपी नाथावत ने बताया कि पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया जाएगा। प्रकरण में अभियोजन की ओर से एलआर चौधरी ने पैरवी की।

छह करोड़ से ज्यादा की संपत्ति : एसीबी ने सुवालाल जाट को गिरफ्तार करने के बाद उसके घर की तलाशी ली थी। इसमें करीब छह करोड़ से ज्यादा की संपत्ति के कागजात बरामद हुए थे। इसमें मदनगंज किशनगढ़ में बीस से ज्यादा भूखंड और करीब 50 बीघा जमीन शामिल है। आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला अलग से दर्ज किया गया था। इसमें एसीबी द्वारा जांच की जा रही है।-Source: Bhaskar News | Last Updated 04:47(18/11/11)

No comments:

Post a Comment

Followers