पीलिया :-यदि आपका कोई अपना या परिचित पीलिया रोग से पीड़ित है तो इसे हलके से नहीं लें, क्योंकि पीलिया इतन घातक है कि रोगी की मौत भी हो सकती है! इसमें आयुर्वेद और होम्योपैथी का उपचार अधिक कारगर है! हम पीलिया की दवाई मुफ्त में देते हैं! सम्पर्क करें : 0141-2222225, 98285-02666

Monday, December 12, 2011

एएसआई रंजीत सिंह बंद्राल को रिश्वत लेते विजिलेंस ने रंगे हाथों धरा!


दोमाना। राज्य विजिलेंस विभाग की कार्रवाई में पुलिस का एक एएसआई रिश्वत लेते रंगे हाथों धरा गया। आरोपी की पहचान एएसआई रंजीत सिंह बंद्राल के रूप में हुई है। डीएसपी राजेंद्र सलगोत्रा और डीएसपी जतिन मट्टू के नेतृत्व में विजिलेंस की टीम ने दोमाना थाना के सामने स्थित लक्ष्मी स्वीट शाप पर यह कार्रवाई की। मौके पर दोमाना थाना में तैनात एएसआई रंजीत सिंह को शिकायतकर्ता मनदीप से दो हजार रुपए रिश्वत में लेते रंगे हाथों हिरासत में ले लिया गया। आईजी जम्मू दिलबाग सिंह के अनुसार आरोपी एएसआई को सस्पेंड कर दिया गया है। आरोपी के खिलाफ विभागीय जांच भी की जाएगी। उन्होंने विजिलेंस विभाग की इस कार्यवाही को सराहा है।

जानकारी के अनुसार पुलिस में एसपीओ रह चुका मनदीप का दो दिन पहले ही जमीन के मामले को लेकर विवाद हुआ था। इस शिकायत की जांच एएसआई रंजीत सिंह के पास थी। शिकायत कर्ता का आरोप है कि एएसआई ने उससे मामला निपटाने के लिए पांच हजार रुपए मांगे थे। बाद में मामला दो हजार में सेटल हो गया। विजिलेंस विभाग को इस मामले में शिकायत दी गई। जिसपर विजिलेंस विभाग की ओर से शिकायतकर्ता को केमिकल लगे रुपये दिए गए। शाम पांच बजे के करीब शिकायतकर्ता ने आरोपी एएसआई को पुलिस स्टेशन के सामने स्थित लक्ष्मी स्वीट शाप पर बुलाया। जैसे ही आरोपी ने पैसे लेकर जेब में डाले मौके पर मौजूद विजिलेंस की टीम ने दविश देकर आरोपी को पकड़ लिया। मौके पर ही उसके हाथ और उसकी पेंट की जिस जेब में रुपये डाले थे को धोया गया। हाथ ओर कपड़ाें को धोते ही केमिकल ने अपना रंग दिखा दिया। मौके पर मौजूद गवाहों के सामने ही यह सब किया गया। आरोपी की पेंट आदि को भी विभाग ने जब्त कर लिया है।-१०.१२.११, अमर उजाला,

No comments:

Post a Comment

Followers